Dosti Sad Shayari | Dard bhari dosti shayri | दर्द दोस्ती शायरी

Dosti Sad Shayari, दर्द दोस्ती शायरी, dosti dard bhari shayari, दोस्ती भरी शायरी, dosti dard shayari, dosti sad shayari in hindi, dosti ki dard bhari shayari in hindi, dard dosti shayari, dosti bhari shayari

जिस दिल में बसा था दोस्त नाम तेरा हमने वो तोड़ दिया, न होने दिया तुझे बदनाम बस तेरे नाम लेना छोड़ दिया..!!

 

कभी सोचा न था के दोस्त मुझे तनहा कर जायेगा, जो अक्सर परेशां देख कर कहता था मैं हूँ ना।

 

नफरत करोगे तो भी आउंगा तेरे पास, देख मेरे दोस्त तेरे बगैर रहने की आदत नहीं मुझे..!! – दर्द दोस्ती शायरी

 

जो जागते हैं, तन्हा रातों में किसी के लिए वही जानते हैं, किसी को खोने का दर्द क्या होता है।

 

दिल परेशान रहता है, उन दोस्तों लिए, हम कुछ भी नहीं हैं, जिनके लिए।

 

मिल ही गया होगा कोई गजब का हमसफर वरना मेरा यार, ऐसे बदलने वालो में से तो नहीं था। – Dosti dard shayari

 

दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं! तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं! यूँ तो मिल जाता है हर कोई! मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!

 

रोने की सज़ा न रुलाने की सज़ा हैं, ये दर्द मोहब्बत को निभाने की सज़ा हैं, हँसते हैं तो आँखों से निकल आते हैं आँसू, ये उस शख्स से दिल लगाने की सज़ा हैं।

 

हम उम्मीदों की दुनियां बसाते रहें, मेरे दोस्त भी पल पल हमें आजमाते रहें, जब दोस्ती में मरने का वक्त आया, हम मर गए और वो मुस्कुराते रहें।

दर्द दोस्ती शायरी

जो नजर से गुजर जाया करते हैं, वो सितारे अक्सर टूट जाया करते हैं, कुछ लोग दर्द को बयां नहीं होने देते, बस चुपचाप बिखर जाया करते हैं।

 

अगर दोस्ती की हद नहीं कोई, तो दर्द का हिसाब क्यों रखूं।

 

किसी का दिल इतना भी मत दुखाओ कि, वो खुदा के सामने तुम्हारा नाम लेकर रो पड़े। – Dosti Sad Shayari

 

नसीहत अच्छी देती है दुनिया, अगर दर्द किसी ग़ैर का हो।

 

रात भर जागता हु एक ऐसे शख्स से खातिर, जिसको दिन के उजाले में भी मेरी याद नहीं आती।

 

हर धड़कन में एक राज़ होता है, हर एक की ज़िन्दगी में कोई ना कोई ख़ास होता है, जब तक ना लगे दोस्ती में ठोकर, हर किसी को अपने दोस्त पे नाज़ होता है। – दर्द दोस्ती शायरी

 

हां मेने भी दोस्ती किया था, दोस्त के ऊपर जा निसार किया था, क्या हुआ जो दोस्त अपना ना बन सका, हाँ मैंने भी अपनी दोस्ती पर भरोसा बेशुमार किया था।

 

तुमको लेकर कभी भी ख्वाब, ख्याल, विचार, गलत नहीं आये, बस इसी बात से लगा लो अंदाज़ा मेरी दोस्ती का।

 

अपने दोस्त को देकर खुशियों का एक मुकम्मल ठिकाना, खुद को दर्द के घर किरायदार बना बैठे। – Dosti dard shayari

Additional reading:- Papa Ke Liye Shayari

Dosti dard bhari shayari

तेरी दोस्ती की आदत सी पड़ गयी है मुझे, कुछ देर तेरे साथ चलना बाकी है, शमसान मैं जलता छोड़ कर मत जाना, वरना रूह कहेगी कि रुक जा, अभी तेरे यार का दिल जलना बाकी है।

 

भूल जाना तो दुनिया का रसम है दोस्त तुमने भुला दिया तो कोण का कमाल कर दिया।

 

हम कहीं जायेंगे बना लेंगे जगह अपने लिए हम को आता है दिल में उतर जाना। – Dosti Sad Shayari

 

अब फिर कभी नहीं हो सख्ती दोस्ती मुझे, वो मेरा प्यारा दोस्त भी एक ही था, मेरा दिल भी एक ही है।

 

दोस्ती का नतीजा दुनिया में हमने पहली बार बुरा देखा, जिनसे दावा था वफा का उन्हें भी हमने बेवफा देखा।

 

कौन कहता है कि मुसाफिर ज़ख़्मी नहीं होते, रास्ते गवाह है बस गवाही नहीं देते। – दर्द दोस्ती शायरी

 

खुशनसीब होते हैं बादल जो दूर रह कर भी जमीन पर बरसते हैं, एक बदनसीब हम हैं जो एक ही दुनिया में रह कर भी मिलने को तरसते हैं।

 

उसने दर्द इतना दिया कि सहाना गया उसकी आदत सी थी इसलिए रहा नहीं गया आज।

 

लोग रूप देखते है ,हम दिल देखते है, लोग सपने देखते है हम हक़ीकत देखते है, लोग दुनिया मे दोस्त देखते है, हम दोस्तो मे दुनिया देखते है। – Dosti dard shayari

दोस्ती भरी शायरी

हर मोड़ पर मुकाम नहीं होता, दिल के रिश्तो का कोई नाम नहीं होता, चिराग की रौशनी से ढूँढा है आपको, आप जैसा दोस्त मिलना आसान नहीं।

 

दिन बीत जाते है सुहानी यादें बनकर, बाते रह जाती है कहानी बनकर, पर दोस्त तो हमेशा दिल के करीब रहते है, कभी मुस्कान तो कभी, आँखों का पानी बनकर।

 

कहीं अंधेरा तो कहीं शाम होगी, मेरी हर ख़ुशी तेरे नाम होगी, कभी मांग कर तो देख हमसे ए दोस्त, होंठो पर हसीं और हथेली पर जान होगी। – Dosti Sad Shayari

 

तेरा नजरिया मेरे नजरियों से दोस्त, बिल्कुल अलग था, सायद तेरी दोस्ती में, मेरे इतना दम नहीं था, तेरे पास मेरे लिए, बिल्कुल भी वक्त नहीं था।

 

तेरी दोस्ती के अफ़साने, कुछ ऐसा लिखना चाहता हूँ, पढ़ कर तू याद जरुर करे, कुछ ऐसा करना चाहता हूँ।

 

हमारी दोस्ती सबसे अलग है, सबसे प्यारी और सबसे हट कर है। – दर्द दोस्ती शायरी

 

अगर माफी मांगने से कोई रिश्ता बच सकता है तो ए दोस्तों माफ कर देना सोनू रिश्ता और भी मजबूत हो जाता है।

 

मर के किसी को किया इलज़ाम दे अपनी मौत का यहाँ सताने वाले भी अपने है और दफ़नाने वाले भी अपने है।

 

आ गया जिस रोज़ दिल को समझें मुझे आप की ये बेरूखी किस काम की रह जाएगी। – Dosti dard shayari

Additional reading:- Best Muskan Shayari

Dosti Dard Shayari

लोग कहते रहे कि इतनी दोस्ती मत करो की दोस्त दिल पर सवार हो जाए कहा मानो बुजुर्गों का कि दोस्ती इतनी करो कि दुश्मनों को भी तुमसे प्यार हो जाए।

 

बस एक जरा ख्याल इस दोस्ती का था वरना बहुत गिला तेरी बेरुखी का था लगा तेरी जिंदगी में हूं मैं लेकिन यह तो धोखा मेरी कोई सादगी का था।

 

यह दोस्ती मेरी नहीं हमारी है इसलिए तो सब रिश्ते से यह हमें प्यारी है। – Dosti Sad Shayari

 

तेरी दोस्ती तेरी वफा ही काफी है,तमाम उम्र ये आसरा ही काफी है, जहाँ कहीं भी मिलो मिल के मुस्कुरा देना, मेरे जीने के लिए तेरी यह अदा ही काफी है।

 

दूर हो जाऊं तो जरा इंतज़ार करना,अपने दिल में इतना तो ऐतबार करना लौट के आयेंगे हम, अगर कहीं चले भी गए तो,आप बस हमसे ये दोस्ती बरकरार रखना।

 

फूलों की महक को चुराया नही जाता, सूरज की किरणों को छुपाया नही जाता, कितने भी दूर रहो तुम हमसे ए दोस्त, आप जैसे दोस्त को भुलाया नही जाता। – दर्द दोस्ती शायरी

 

ए दोस्त तेरी दोस्ती का क़र्ज़ हर हाल में चुकायेंगे, तेरे लिए खुदा का कहना भी हम टाल जायेंगे,ए दोस्त तेरी दोस्ती की कसम,तेरे लिए इस दिल को भी सीने से अलग कर जायेंगे।

 

भूल तेरी माफ़ की हर खता को तेरी भुला दिया गम है कि, मेरी दोस्ती का तूने बेवफा बनके सिला दिया।

 

सागर ना हो तो कश्ती किस काम की मजाक  ना हो तो मस्ती किस काम की दोस्ती के लिए तो कुर्बान है ये ज़िंदगी अगर दोस्त ही ना रहे तो फिर ये जिंदगी किस काम कीं। – Dosti dard shayari

Additional reading:-

Leave a Comment